दो महीने का चातुर्मास व्रत हुआ पूरा, क्रोध त्यागने की दी प्रेरणा

पिछले दो महीने से चल रहा संत रविशंकर महाराज ‘रावतपुरा सरकार’ का चातुर्मासिक व्रत अनुष्ठान शनिवार को पूरा हो गया।…

पिछले दो महीने से चल रहा संत रविशंकर महाराज ‘रावतपुरा सरकार’ का चातुर्मासिक व्रत अनुष्ठान शनिवार को पूरा हो गया। इस मौके पर देशभर से पहुंचे भक्तों की मौजूदगी में सवा लाख पार्थिव शिवलिंग का ब्रम्ह मुहूर्त में अभिषेक किया गया। व्रत समापन के मौके पर भक्तों को संबोधित करते हुए रावतपुरा सरकार ने क्रोध से दूर रहने की प्रेरणा दी। इससे पहले रावतपुरा सरकार आश्रम में मुंबई के कलाकारों द्वारा बनाई गई 21 फीट ऊंची शिव प्रतिमा के सामने रावतपुरा सरकार ने भक्तों के साथ पार्थिव शिवलिंग का वैदिक पद्धति से अभिषेक किया। सुबह ब्रह्म मुहूर्त में जबलपुर से आए कलाकारों ने शहनाई वादन की प्रस्तुति दी। इसी क्रम में आश्रम चल रहे हरियर यज्ञ यज्ञ 6 सितम्बर को समापन होगा। इसके बाद रविशंकर महाराज अपने भक्तों के साथ उज्जैन स्थित महाकाल एवं रावतपुरा सरकार के दर्शन करेंगे। 3 अक्टूबर से नर्मदा परिक्रमा होगी जो ओमकारेश्वर से शुरू होकर केदारनाथ, बद्रीनाथ दर्शन के बाद 17 अक्टूबर को ओमकारेश्वर में आकर पूरी होगी।

आश्रम में शनिवार सुबह 4 बजे अभिषेक की शुरुआत हुई, इसमें बड़ी संख्या में भक्त शामिल हुए।

क्रोध से रहें दूर, अभिमान न पालें: रावतपुरा सरकार

संत रविशंकर महाराज ‘रावतपुरा सरकार’ ने चातुर्मास व्रत के समापन अवसर पर कहा कि संसार में जीव हर समय चिंताओं से घिरा रहता है। अनेक तरह की कामनाएं, इच्छाएं मन को अस्थिर और चिंतायुक्त बनाए रखती हैं। चित्त की शांति,मन की स्थिरता की अभिलाषा रखने वाले पुरुष को सद्विचारों को, धारण करना चाहिए। भगवान के रूपों का मनन करना चाहिए। यह भक्ति ही मनुष्य को संसार के भय बंधनों से मुक्त रखती है। ईश्वर की भक्ति अपने कर्तव्यों का पालन करने वाले मनुष्यों की अभय प्रदान करती है। इसलिए क्रोध से दूर रहें, अभिमान न पालें, कल्याण होगा। शांति अपने संतोष से मिलती है, वह भला उस व्यक्ति को कैसे मिल सकती है जो दूसरों को कष्ट देता है। जैसे संभल कर चलने वाले व्यक्ति को मार्ग के कष्ट नहीं होते, वैसे ही मन में संतोष रखने वाले व्यक्ति के पास सर्वदा प्रसन्नता रहती है। संतोषी एवं विचार शील धैर्यवान मनुष्य के पास हमेशा सुख ही सुख है, जो मनुष्य संतोषी नहीं हैं ।

 

Related Post

Leave a Comment