श्री रावतपुरा सरकार इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी के रिसर्च स्कॉलर को पीएचडी की डिग्री अवॉर्ड

कुम्हारी, 6 नवबंर, 2018

श्री रावतपुरा सरकार इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी के पहले रिसर्च स्कॉलर हेमंत बादाविक को पीएचडी की डिग्री अवॉर्ड।

 

दुर्ग जिले के कुम्हारी में स्थित श्री रावतपुरा सरकार इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी (एसआरआईपी) के शोध छात्र श्री हेमंत बादाविक को पीएचडी की उपाधि से सम्मानित किया गया है। श्री हेमंत बादाविक ने “दवा वितरण के लिए प्राकृतिक पॉलिसाक्साइड के संरचनात्मक संशोधन” विषय पर अपना शोध कार्य प्रोफेसर डी.के. त्रिपाठी के निर्देशन में पूरा किया है। स्वामी विवेकानंद तकनीकी विश्वविद्यालय, भिलाई में शोध छात्र के तौर पर नामांकित हेमंत बादाविक ने रिसर्च सेंटर के तौर पर श्री रावतपुरा सरकार इंस्टीट्यूट ऑफ फार्मेसी को चुना था।

 

 

हेमंत बादाविक को पीएचडी की उपाधि अवॉर्ड होने पर श्री रावतपुरा सरकार ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के वाइस चेयरमैन डॉ. जे.के. उपाध्याय ने खुशी जाहिर की है। डॉ. उपाध्याय ने कहा कि एसआरआईपी में अपना शोध कार्य करके डॉक्टरेट पाने वाले हेमंत बादाविक पहले छात्र हैं। एसआरआईपी में शोध कार्य के लिए 20 हजार से ज्यादा किताबों वाली विशाल लाइब्रेरी, हाईटेक लैबोरेटरी, एनिमल हाउस और उत्कृष्ट शिक्षण कार्य का वातावरण है।

एसआरआईपी इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर एम.के. श्रीवास्तव, प्रिंसिपल डॉ. चंचलदीप कौर, एवं अन्य स्टाफ ने हेमंत बादाविक के उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं दी हैँ। ​​हेमंत बदविक ने प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय पत्रिकाओं में 35 से ज्यादा शोध पत्र प्रकाशित किए हैं। अपने शोधकार्य के दौरान हेमंत बादाविक ने प्रतिष्ठित अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में 5 शोध पत्र प्रकाशित किए। उन्हें 2017 छत्तीसगढ़ काउंसिल ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी एवं मेडिकल एंड फार्मास्यूटिकल साइंसेज की ओर से अपने शोध कार्य के लिए मान्यता प्राप्त युवा वैज्ञानिक पुरस्कार भी प्राप्त हो चुका है।

Related Post

Leave a Comment